गुरुवार, 19 अप्रैल 2012

मेहनत के नशे में आप सिगरेट से सिगार हो गये

मेरी इस साल की main exams पूरी हो चुकी हैं‌‍‍‍ बस अब Practical exams की Final Date का इंतज़ार है और इसी के साथ मेरी P.G.(PHYSICS) की Degree Complete हो जायेगी. हर साल की तरह इस साल भी college में Fair-well Party का आयोजन किया गया. होने को तो ये आयोजन हर साल होता है लेकिन इस बार विदाई हमें दी जा रही थी, हम थे Senior सो विदाई भी हमे ही दी जानी थी. सभी इस पार्टी को लेकर बहुत खुश थे मगर एक आजीब सी ख़ामोशी भी सभी के चेहरे पर साफ झलक रही थी. खुशी इसलिए कि हमारी PG की पढाई पूरी होने जा रही थी, हमें अपने Career की दिशा में एक और कदम बढ़ाना था और दुखी इस लिए थे की एक साल से जिन Juniors के साथ और 5 साल से जिन Teachers से साथ हंसी खुशी बिताया, आज उनसे अलग होने का दिन था, हालाँकि सभी जानते थे कि एक दिन आगे कि Study के लिए ये कॉलेज छोडना पड़ेगा, इन दोस्तों से अलग होना पड़ेगा मगर फिर भी उन पलों में जज्बात खुशी से ज्यादा होवी थे. खैर party अच्छी गई, सभी ने खूब मनोरंजन, मोज-मस्ती की. Juniors और Teachers ने हमारे उज्जवल भविष्य दे कामना की और हमने भी उन्हें हमेशा आगे बढते रहने और मन लगाकर पढाई करने की सलाह दी.

http://kumar-sagar.blogspot.com/
Lightning by Our Principle Sir
Juniors ने हमें और हमने teachers को जमकर Title( आचार व्यवहार के आधार पर व्यक्त की जाने वाली कुछ पंक्तियाँ ) दिए. मैंने भी Teachers को अपने अंदाज में कुछ Titles दिए...



For our HOD Mr. Naresh Ji Chejara(University Topper and NET Qualified)

कभी गुरु हुए तो कभी गुलजार हो गए
तकरार हुई कभी तो कभी दोस्ती का उपहार हो गये
बस वक्त रंग बदलता गया और 
आप गुरु से गुड की रसधार हो गये

http://kumar-sagar.blogspot.com/
Lightning by Manish Ji and in black Shirt My HOD


For our Microwave Teacher Mr. Sunil Ji Kumawat(University Topper)

मेहनत के नशे में आप सिगरेट से सिगार हो गये
हर कदम पर सीखते सिखाते मुश्किलों के आगे दिवार हो गये
वक्त पे काबू कुछ यूँ किया आपने कि
आज सरकशों की फेहरिस्त में शुमार हो गये

http://kumar-sagar.blogspot.com/
My classmate and Best Friend Mr. Bhawani Singh


For our Quantum Teacher Mr. Sanjay Ji Saini(NET JREF, BARC, Gate Qualified with a good Teaching Humor, our best Teacher, we refer him for any Concept related problem in any subject ie. all rounder in one word)

आप  पढ़े इतना कि खुद ही खंजर की धार हो गये
जो टकराए आपसे इरादे उनके ही बेकार हो गये
अब भी ज्ञान के छापेखाने में छाप रहे हो यूं
कि हर किसी कि सुबह का अखबार हो गये

Prof. Sanjay Kumar Saini


For our Ex. Teacher and Special Guest Mr. GyanPrakash Ji Sharma(Topper of our college and third ranked in the university, a student friendly teacher everyone love him a lot because of their sense of humor)

इस महफिले दहर ने गरमाई पाई है तुमसे
सच कहूँ तो हर चेहरे पे रोनक आई है तुमसे
उस साखे लुत्फ़ का हक़दार है हर कोई 
जो रंगत हमने पाई है तुमसे

कुल दो कदम ही जो साथ चले हैं हम तुम्हारे
समझ  लिया कि क्यों हर मुशीबत बीच राह में शरमाई है तुमसे
क्यों  जिंदादिली है जिन्दा तुमसे
क्यों आज हर चेहरे पे रोनक आई है तुमसे
बस यूँ ही बरक़रार रखना इन लबों पे हसीं
क्योंकि खुद अपनी ही जिंदगी की रोशनी है तुमसे

                                                                                                
                                                                                  ---------कुमार (सागर)
 

--------------------------------------------------------------------------------------

इस  रचना के बारे में आपके विचारों और सुझावों का इंतज़ार रहेगा ...धन्यवाद!!
Pin It

10 प्रतिक्रियाएँ:

  1. Ap jese dosto ki judai na ho kbi hmari zindgi se

    dil me jhah kuch apke lia bna rkhi h

    apki judai na hogi kbhi dil se

    jese dost aur dosti apke lia bna rkhi h

    nic 1yara bhut acha share kiya h

    ٠•♥jitesh٠ •♥

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर.............

    ये दिल सदा याद रहेंगे.....सुर जीवन के सबसे प्यारे दिन यही तो हैं....
    सभी रचनाये (टाइटिल) बढ़िया...
    शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut yaadgaar ban gayee hai yah rachna..
    bahut badiya shayari lagi
    college ke din bhi kya din hua karte the...aapki post padhkar yaad aane lage we din..
    Ujjwal bhaviyashy ki haardik shubhkamnaon sahit..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कविता जी सराहना के लिए शुक्रिया!!

      हटाएं
  4. ACHHA PRAYAS SAGAR SAHAB!
    PRONUNCIATION PE ZARA DHYAN DIJIYE..
    METER ME KUCHH HI LINES HAIN..KHAIR KOI BAAT NHI..
    KUCHH LINES BAHUT HI DIL-AZIZ HAIN.
    GOOD BYE!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Thanks for your valuable suggestion...
      just trying to fix the errors...
      i say thanks, again!!

      हटाएं
  5. बहुत सुंदर और रोचक प्रस्तुति...सभी रचनायें सुंदर...

    उत्तर देंहटाएं

कृपया इस रचना के लिए अपनी कीमती राय अवश्य दें ...धन्यवाद