रविवार, 27 नवंबर 2011

वक़्त से पूछो...

तुम क्या जानो होती क्या है तन्हाई,
टूटे हुए पत्तों से पूछो होती क्या है जुदाई,
ये बेवफाई का इल्ज़ाम न देना मुझे,
वक़्त से पूछो किस वक़्त तुम्हारी याद ना आई ...
Pin It

3 प्रतिक्रियाएँ:

कृपया इस रचना के लिए अपनी कीमती राय अवश्य दें ...धन्यवाद